150 साल पुराने अमेरिकी म्यूजियम में नीता अंबानी बनी पहली महिला ट्रस्टी

150 साल पुराने अमेरिकी म्यूजियम में नीता अंबानी बनी पहली महिला ट्रस्टी

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • रिलायंस फाउंडेशन की प्रमुख नीता अंबानी को न्यूयॉर्क में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट का ट्रस्टी चुना गया है. नीता अंबानी दुनिया के सबसे बड़े कला संग्रहालय के 150 साल के इतिहास में ट्रस्टी की भूमिका निभाने वाली पहली भारतीय होंगी. मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम के चेयरमैन डैनियल ब्रोडस्की ने नीता अंबानी के बोर्ड में शामिल होने की घोषणा की है.
  • उन्होंने कहा, “भारत में कला एवं संस्कृति को संरक्षित करने और प्रोत्साहन देने की नीता अंबानी की प्रतिबद्धता वास्तव में असाधारण है. उनके मेट्रोपॉलिटन के बोर्ड में शामिल होने से म्यूजियम की क्षमता बढ़ेगी. नीता अंबानी का स्वागत करते हुए हमें बेहद खुशी हो रही है.”
  • नीता अंबानी विशेष रूप से भारत की कला, संस्कृति और विरासत के संरक्षण और संवर्धन के लिए काम करती हैं. भारत की सांस्कृतिक पहचान को बनाए रखने और उनकी प्रासंगिकता सुनिश्चित करने के लिए रिलायंस फाउंडेशन कई प्रयास करता आ रहा है.
  • साल 2017 में भी मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट ने एक कार्यक्रम में नीता अंबानी को सम्मानित किया था. मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम का यह कार्यक्रम उन हस्तियों के सम्मान में किया जाता है जो कला की दुनिया में विविधता और समावेश को बढ़ावा देते हैं.
  • रिलायंस फाउंडेशन की प्रमुख नीता अंबानी ‘द मेट्स इंटरनेशनल काउंसिल’ की भी सदस्य हैं. नीता अंबानी को साल 2017 में रिलायंस फाउंडेशन की तरफ से भारतीय विरासत को संभालने के काम के लिए भारत के राष्ट्रपति से
    प्रतिष्ठित राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार मिला था.
  • साल 2016 में फोर्ब्स ने नीता अंबानी को एशिया के 50 सबसे शक्तिशाली कारोबारी महिलाओं की लिस्ट में शामिल किया था. वह अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की सदस्य भी हैं और इस भूमिका को निभाने वाली वे पहली भारतीय
    महिला हैं.

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. हाल ही में न्यूयॉर्क में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट के 150 साल के इतिहास में ट्रस्टी बनने वाली पहली भारतीय कौन है ? नीता अंबानी
  2. रिलायंस फाउंडेशन की प्रमुख नीता अंबानी को हाल ही में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट का ट्रस्टी चुना गया है जो की स्थित है? न्यूयॉर्क

Click here to read in English

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *