महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू हुआ

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) की सिफारिश और केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार ना बनने की स्थिति को देखते हुए राष्ट्रपति शासन (President’s Rule) लगा दिया है. गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने बताया कि राष्ट्रपति शासन फिलहाल 6 महीने के लिए लगाया गया है हालांकि इस दौरान
    अगर कोई भी पार्टी बहुमत साबित कर देती है तो सरकार बन सकती है.
  • बता दें कि इससे पहले राज्यपाल ने बीजेपी, शिवसेना और एनसीपी को सरकार बनाने का मौका दिया था। गृह मंत्रालय का कहना है कि राज्यपाल की तरफ से राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करते हुए कहा गया था कि राज्य में
    संविधान के मुताबिक सरकार गठन मुश्किल नजर आ रहा है। राज्यपाल ने अनुच्छेद 356 का इस्तेमाल करते हुए सूबे में राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा की।
  • राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने अनुच्छेद 356 (1) के तहत महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की घोषणा पर हस्ताक्षर किए हैं, उन्होंने कहा, विधानसभा को निलंबित एनीमेशन में रखा गया है।
  • गृह मंत्रालय ने बताया कि अभी महाराष्ट्र की विधानसभा निलंबित रहेगी।

अनुच्छेद 356 (1) के अनुसार:

  • जहां इस संविधान के किसी उपबंध के अधीन संघ की कार्यपालिका शक्ति का प्रयोग करते हुए दिए गए किन्हीं निदेशों का अनुपालन करने में या उनको प्रभावी करने में कोई राज्य असफल रहता है वहाँ राष्ट्रपति के लिए यह मानना
    विधिपूर्ण होगा कि ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जिसमें उस राज्य का शासन इस संविधान के उपबंधों के अनुसार नहीं चलाया जा सकता है।

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. हाल ही में भारत के किस राज्य में सरकार ना बनने की स्थिति को देखते हुए राष्ट्रपति शासन लगाया गया है? महाराष्ट्र
  2. महाराष्ट्र में सरकार ना बनने की स्थिति को देखते हुए किस अनुच्छेद के तहत राष्ट्रपति शासन लगाया गया? अनुच्छेद 356

Click here to read in English

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *