जम्मू कश्मीर सरकार ने डल झील को ईएसजेड घोषित करने के लिए समिति बनाई

जम्मू कश्मीर सरकार ने डल झील को ईएसजेड घोषित करने के लिए समिति बनाई

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • जम्मू कश्मीर सरकार ने श्रीनगर की प्रसिद्ध डल झील और उसके आसपास के क्षेत्रों को पारिस्थितकी के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र (ईएसजेड) घोषित करने के लिए एक दस सदस्यीय समिति बनाई है।
  • ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (डीसीआई) ने 2017 में एक आकलन किया था जिसके अनुसार प्रदूषण और अतिक्रमण की वजह से डल झील 22 वर्ग किलोमीटर के मूल आकार से सिकुड़कर करीब 10 वर्ग किलोमीटर की हो गयी है।
  • डीसीआई ने यह भी कहा कि विश्वप्रसिद्ध झील की क्षमता भी कम होकर करीब 40 प्रतिशत रह गयी है और इसके पानी की गुणवत्ता भी खराब हो गयी है।
  • सामान्य प्रशासन विभाग के अतिरिक्त सचिव सुभाष छिब्बर ने कहा, ‘‘डल झील और उसके आसपास के क्षेत्रों को पारिस्थितिकी के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र घोषित करने की अधिसूचना के मसौदे को अंतिम रूप देने के लिए 10
    सदस्यीय समिति के गठन को मंजूरी दी गयी है।’’
  • उन्होंने बताया कि यह समिति एक महीने के अंदर अधिसूचना के मसौदे को अंतिम रूप देगी। समितियों को सभी सुविधाएं आवास और शहरी विकास विभाग प्रदान करेगा।
  • समिति में मुख्य वन संरक्षक, पर्यटन विभाग के निदेशक, झीलों और जलमार्ग विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष, उद्योग विभाग के निदेशक, श्रीनगर नगर निगम के आयुक्त (एसएमसी), कश्मीर के क्षेत्रीय वन्यजीव वार्डन, राज्य के क्षेत्रीय निदेशक शामिल हैं। सुभाष छिब्‍बर कहा कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, कृषि विभाग के निदेशक, मुख्य नगर नियोजक और विधि विभाग के प्रतिनिधि हैं।

डल झील:

  • डल झील श्रीनगर, कश्मीर में एक प्रसिद्ध झील है। १८ किलोमीटर क्षेत्र में फैली हुई यह झील तीन दिशाओं से पहाड़ियों से घिरी हुई है। जम्मू-कश्मीर की दूसरी सबसे बड़ी झील है। इसमें सोतों से तो जल आता है साथ ही कश्मीर घाटी
    की अनेक झीलें आकर इसमें जुड़ती हैं। इसके चार प्रमुख जलाशय हैं गगरीबल, लोकुट डल, बोड डल तथा नागिन। लोकुट डल के मध्य में रूपलंक द्वीप स्थित है तथा बोड डल जलधारा के मध्य में सोनालंक द्वीप स्थित है।

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. हाल ही में श्रीनगर की किस प्रसिद्ध झील को संवेदनशील क्षेत्र (ईएसजेड) घोषित करने के लिए एक दस सदस्यीय समिति बनाई है? डल झील

Click here to read in English

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *