मलयाली लेखक अक्कितम को मिलेगा 55वां ज्ञानपीठ पुरस्कार

मलयाली लेखक अक्कितम को मिलेगा 55वां ज्ञानपीठ पुरस्कार

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • मलयाली प्रख्यात लेखक अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी को 55वां ज्ञानपीठ पुरस्कार को दिए जाने की घोषणा की गयी है। भारतीय ज्ञानपीठ की प्रवर समिति की हुई बैठक में मलयालम भाषा के शीर्ष कवि साहित्यकार को यह पुरस्कार दिए जाने का निर्णय लिया गया।
  • पुरस्कार में 11 लाख रुपये, वाग्देवी की प्रतिमा प्रशस्ति पत्र एवं एक स्मृति चिह्न शामिल है।
  • आठ मार्च 1926 को केरल के पलाकड़ जिले के कुमर नल्लुर गाँव में जन्मे श्री अक्कितम को इस पुरस्कार का चयन ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता उडिया लेखिका प्रतिभा राय की अध्यक्षता वाली समिति ने किया।
  • भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार श्री अक्कितम की बचपन से ही साहित्य, चित्रकला, संगीत और ज्योतिष में अत्यधिक रूचि रही है। कविता, नाटक, उपन्यास और अनुवाद में उनकी 40 से अधिक पुस्तकें छपी हैं।
  • वे सकारत्मक समाजिक परिवर्तन के प्रस्तावक युगद्रष्ट कवि हैं। उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार, मूर्ति देवी पुरस्कार, कबीर सम्मान, वल्लतोल सम्मान आदि मिल चुका है। उनकी रचनाओं के कई भारतीय भाषाओं और विदेशी भाषा में अनुवाद हो चुका है।

ज्ञानपीठ पुरस्कार :

  • भारत में साहित्य पुरस्कार के लिए सम्मानित किया जाता है
  • द्वारा प्रायोजित: भारतीय ज्ञानपीठ
  • पुरस्कार: 11 लाख
  • प्रथम पुरस्कार: 1965
  • प्रथम विजेता: जी शंकर कुरुप

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. 55 वें ज्ञानपीठ पुरस्कार के लिए किस प्रख्यात लेखक को चुना गया है? अक्कितम
  2. अक्कितम, जिन्होंने हाल ही में 55 वां ज्ञानपीठ पुरस्कार जीता, किस क्षेत्रीय भाषा के प्रख्यात कवि हैं? मलयालम

Click here to read in English

Dear All,

To get regular update about Job Vacancies, results and other job related notifications , subscribe our telegram channel.

To join click below link..

Career Options ✈

Get regular update on all job notifications on real time basis.

https://t.me/CareerOptions

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *