माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए कर्ज देने की सीमा 1 लाख रु से बढ़ाकर 1.25 लाख की

RBI to introduce new prepaid payment instrument

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • आरबीआई ने ग्रामीण और उप-शहरी इलाकों में नकदी की उपलब्धता बढ़ाने के लिए माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए कर्ज देने की सीमा 1 लाख रुपए से बढ़ाकर 1.25 लाख रुपए कर दी।
  • नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी-माइक्रोफाइनेंस संस्थानों से कर्ज लेने की योग्यता का दायरा भी बढ़ा दिया।
  • उप शहरी इलाकों में 2 लाख तक आय वाले भी कर्ज ले सकेंगे
  • ग्रामीण इलाकों में 1.25 लाख रुपए तक सालाना आय वाले भी कर्ज ले सकेंगे। पहले यह लिमिट 1 लाख रुपए तक थी। शहरी और उप-शहरी इलाकों में एनबीएफसी-माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के ग्राहकों के लिए आय की लिमिट 1.60
    लाख रुपए से बढ़ाकर 2 लाख रुपए कर दी गई।

एक नज़र में आरबीआई दरें:

  • पॉलिसी रेपो दर: 5.15%
  • रिवर्स रेपो दर: 4.90%
  • सीमांत स्थायी सुविधा दर: 5.40%
  • बैंक दर: 5.40%
  • CRR: 4%
  • SLR: 18.75%

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. हाल ही में आरबीआई ने ग्रामीण और उप-शहरी इलाकों में नकदी की उपलब्धता बढ़ाने के लिए माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए कर्ज देने की सीमा 1 लाख रुपए से बढ़ाकर ___ कर दी। 1.25 लाख रुपए

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *