RBI ने वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए लगातार 5 वीं बार रेपो दर घटाने का फैसला किया

माइक्रोफाइनेंस संस्थानों के लिए कर्ज देने की सीमा 1 लाख रु से बढ़ाकर 1.25 लाख की

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने रेपो रेट एक चौथाई फीसदी यानी 0.25 फीसदी घटा दिया है. केंद्रीय बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी समिति ने रेपो रेट घटाने का फैसला किया. अब रेपो रेट 5.15 फीसदी पर आ गया है.
  • यह इस साल रेपो रेट में पांचवी कटौती है. इससे पहले आरबीआई इस साल लगातार 4 बार रेपो दर में 1.10 फीसदी की कटौती कर चुका है. इससे पहले उसने अगस्त में रेपो रेट में 0.35 फीसदी की कटौती की थी. इसके बाद रेपो रेट 5.40 फीसदी पर आ गया था.
  • रेपो रेट में कटौती से बैंक उपभोक्ताओं के लिए ब्याज दर कम कर सकते हैं और होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन पर समान मासिक किस्त कम कर सकते हैं।

एक नज़र में दरें:

  • पॉलिसी रेपो दर: 5.15%
  • रिवर्स रेपो दर: 4.90%
  • सीमांत स्थायी सुविधा दर: 5.40%
  • बैंक दर: 5.40%
  • CRR: 4%
  • SLR: 18.75%

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. आरबीआई द्वारा चौथे द्वि-मासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य, 2019-20 के अनुसार, नई रेपो दर क्या है? 5.15%
  2. पॉलिसी रेपो दर और एमएसएफ के बीच दरों में (बीपीएस में) कितना अंतर है? 25 बेसिस अंक

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *