भारत एवं रूस 2025 तक आपसी वार्षिक व्यापार को $ 30 बिल्यन तक बढ़ाने के लिए सहमत

भारत एवं रूस 2025 तक आपसी वार्षिक व्यापार को $ 30 बिल्यन तक बढ़ाने के लिए सहमत

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • भारत और रूस ने 2025 तक $ 30 बिलियन के वार्षिक व्यापार को लक्षित किया और औद्योगिक सहयोग पर काम करने और तकनीकी और निवेश साझेदारी बनाने का फैसला किया है।
  • पीएम मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने व्लादिवोस्तोक में पूर्वी आर्थिक मंच से मुलाकात की और ऊर्जा, रक्षा आदि क्षेत्रों में सौदों की घोषणा की।
  • वे मौजूदा 11 बिलियन डॉलर के द्विपक्षीय व्यापार को ओर बढ़ावा देना चाहते हैं।
  • भारत, दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उपभोक्ता और आयातक है, जिसका उद्देश्य अगले कुछ वर्षों में अपने ऊर्जा मिश्रण में गैस का अनुपात 15% तक बढ़ाना और भूराजनीतिक जोखिम के खिलाफ बचाव के लिए अपनी ऊर्जा आपूर्ति में विविधता लाना है।
  • सरकार 2022 तक भारत के तेल आयात में 10 प्रतिशत की कटौती करना चाहती है, इसलिए वह विदेशी ऊर्जा परिसंपत्तियों को खरीदने के लिए प्रयास कर रही है, जिससे की कम वैश्विक तेल की कीमतों का लाभ उठाया जा सके |
  • हाल ही के घोषित सौदों के बीच, भारत के शीर्ष गैस आयातक पेट्रोनेट एलएनजी (PLNG.NS) नोवाटेक (NVTK.MM) से तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) खरीदने और रूसी कंपनी की भविष्य की परियोजनाओं में निवेश करने के लिए सहमत हुए।
  • दोनों कंपनियां भारत में मोटर ईंधन के रूप में गैस के संयुक्त विपणन पर भी ध्यान देंगी।

रूस के बारे में:

  • रूस, या रूसी संघ, पूर्वी यूरोप और उत्तरी एशिया में एक अंतरमहाद्वीपीय देश है। 17,125,200 वर्ग किलोमीटर वाला रूस दुनिया का सबसे बड़ा देश है
  • राष्ट्रपति: व्लादिमीर पुतिन
  • राजधानी: मास्को
  • मुद्रा: रूसी रूबल
  • महाद्वीप: यूरोप, एशिया

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. हाल ही में भारत किसके साथ औद्योगिक सहयोग पर काम करने और तकनीकी और निवेश भागीदारी बनाने पर सहमत हुआ है? रूस
  2. रूस के साथ वर्ष 2025 तक वार्षिक व्यापार लक्ष्य क्या है? $ 30 बिलियन

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *