होमी जहांगीर भाभा का फ्रांस में एक स्मारक में है जिक्र, PM मोदी ने दिया सम्मान

होमी जहांगीर भाभा का फ्रांस में एक स्मारक में है जिक्र, PM मोदी ने दिया सम्मान: 24.8.2019

न्यूज़ से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य:

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस में अपने वक्तव्य से ठीक पहले एक स्मारक का उद्धाटन किया (भारत के परमाणु वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा का भी है स्मारक में जिक्र).
  • ये वो स्मारक है जो 69 साल पहले फ्रांस की मॉ ब्लां पर्वत शृंखला की दुर्घटना में मरे लोगों की याद में बनवाया गया है.
  • इसके अलावा 1966 में भारत के परमाणु वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा की भी दुर्घटना में मौत हो गई थी. स्मारक में उनका भी जिक्र किया गया है. आइए जानें इस स्मारक में मौजूद वो पूरी दास्तां जो हिंदी में दर्ज है.
  • तीन नवंबर 1950 को एयर इंडिया की उड़ान एआई 245 (मालाबार प्रिसेंस विमान) और 25 जनवरी 1966 को एआई 101 (कंचनजंघा विमान) फ्रांस के मॉ ब्लां पर्वत शृंखला की गोद में चिरविलीन हुआ था, इन दुर्भाग्यपूर्ण त्रासदियों में सैकड़ों भारतीयों के जीवन निशेष हुए. 24 जनवरी 1966 की दुर्घटना में भारत के प्रख्यात परमाणु वैज्ञानिक डॉ. होमी जहांगीर भाभा भी शिकार हुए थे. इन सभी भारतीयों की असामयिक और दुखद मृत्यु पर भारत और फ्रांस की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि.

होमी जहांगीर भाभा:

  • होमी जहांगीर भाभा (30 अक्टूबर, 1909 – 24 जनवरी, 1966) भारत के एक प्रमुख वैज्ञानिक और स्वप्नदृष्टा थे जिन्होंने भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम की कल्पना की थी।
  • उन्होने मुट्ठी भर वैज्ञानिकों की सहायता से मार्च 1944 में नाभिकीय उर्जा पर अनुसन्धान आरम्भ किया।
  • उन्होंने नाभिकीय विज्ञान में तब कार्य आरम्भ किया जब अविछिन्न शृंखला अभिक्रिया का ज्ञान नहीं के बराबर था और नाभिकीय उर्जा से विद्युत उत्पादन की कल्पना को कोई मानने को तैयार नहीं था।
  • उन्हें ‘आर्किटेक्ट ऑफ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम’ भी कहा जाता है।
  • भाभा का जन्म मुम्बई के एक सभ्रांत पारसी परिवार में हुआ था। उनकी कीर्ति सारे संसार में फैली। भारत वापस आने पर उन्होंने अपने अनुसंधान को आगे बढ़ाया।
  • भारत को परमाणु शक्ति बनाने के मिशन में प्रथम पग के तौर पर उन्होंने 1945 में मूलभूत विज्ञान में उत्कृष्टता के केंद्र टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआइएफआर) की स्थापना की।
  • डा. भाभा एक कुशल वैज्ञानिक और प्रतिबद्ध इंजीनियर होने के साथ-साथ एक समर्पित वास्तुशिल्पी, सतर्क नियोजक, एवं निपुण कार्यकारी थे। वे ललित कला व संगीत के उत्कृष्ट प्रेमी तथा लोकोपकारी थे।
  • 1947 में भारत सरकार द्वारा गठित परमाणु ऊर्जा आयोग के प्रथम अध्यक्ष नियुक्त हुए।
  • १९५३ में जेनेवा में अनुष्ठित विश्व परमाणुविक वैज्ञानिकों के महासम्मेलन में उन्होंने सभापतित्व किया।
    भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के जनक का २४ जनवरी सन 1966 को एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था।
  • पुरस्कार:
    • एडम्स पुरस्कार (1942)
    • पद्म भूषण (1954)
    • 1951 और 1953-1956 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार।

फ्रांस के बारे में:

  • राजधानी: पेरिस
  • राष्ट्रपति: इमैनुएल मैक्रॉन
  • मुद्रा: यूरो

उपरोक्त समाचार पर आधारित अति महत्वपूर्ण संभावित प्रश्नावली:

  1. फ्रांस की मॉ ब्लां पर्वत शृंखला की दुर्घटना में मरे लोगों की याद में किस भारतीय व्यक्तित्व ने एक स्मारक का उद्घाटन किया है? नरेंद्र मोदी
  2. भारतीय परमाणु कार्यक्रम के जनक के रूप में किसे जाना जाता है? होमी जहांगीर भाभा
  3. फ्रांस के वर्तमान राष्ट्रपति कौन हैं? इमैनुएल मैक्रॉन

Click here to Read in English

Read More at Aajtak

NO COMMENTS:

Your email address will not be published. Required fields are marked *